Bodhi Tree : भगवान बुद्ध से सम्बंधित एक पवित्र वृक्ष

Bodhi tree

बोधि वृक्ष का शाब्दिक अर्थ ज्ञान का वृक्ष है। Bodhi Tree बोधगया स्थित एक विशाल पीपल का वृछ है। बौद्ध धर्म में इस पेड़ को सबसे प्रमुख और सम्मानित स्थान दिया गया है। क्योकि ईसा पूर्व 531 में Rajkumar Gautam को इसी वृक्ष के निचे बोध (ज्ञान) प्राप्त हुआ था। सात दिनों तक ज्ञान की खोज में बुद्ध इसी वृक्ष के निचे तपस्या किये और आत्मज्ञान प्राप्त होने के बाद गौतम बुद्ध को बुद्ध के नाम से जाना जाने लगा। ज्ञान प्राप्त करने के बाद बुद्ध इस स्थान को छोड़ कर धर्म प्रचार के लिए दूसरे प्रदेश में चले गए और बाद में उनके अनुयायी इस स्थान पर प्रार्थना लिए आने लगे। Bodhi Tree यूनेस्को द्वारा घोसित विश्व विरासत स्थल…

BodhGaya : विश्व में बौद्ध धर्म की राजधानी और एक विश्व विरासत स्थल

BodhGaya

बिहार राज्य के कई जिलों में बौद्ध धर्म से सम्बंधित कई पुरातत्व स्थान मिले है ,जो इसको बौद्ध धर्म की जनम स्थली प्रमाणित करती है। बोधगया शहर बौद्ध धर्म से सम्बंधित एक विरासत स्थल है। BodhGaya बिहार में गया शहर से कुछ दुरी पर स्थित Buddhism के अनुयायियों का सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है। यह पवित्र ,धार्मिक और सांत पर्यटन स्थल हजारों Buddhist pilgrims को अपने तरफ आकर्षित करता है। यह शहर के शोरगुल से दूर और प्रकृति की गोद में स्थित एक शान्तिप्रिय शहर है। Gautam buddha ने शहर के एक स्थान पर वृछ के निचे तपस्या कर ज्ञान की प्राप्ति की थी। गौतम बुद्ध ज्ञान की प्राप्ति के बाद बुद्ध हो गये और इस स्थान को छोड़ कर…