BodhGaya : विश्व में बौद्ध धर्म की राजधानी और एक विश्व विरासत स्थल

BodhGaya

बिहार राज्य के कई जिलों में बौद्ध धर्म से सम्बंधित कई पुरातत्व स्थान मिले है ,जो इसको बौद्ध धर्म की जनम स्थली प्रमाणित करती है। बोधगया शहर बौद्ध धर्म से सम्बंधित एक विरासत स्थल है। BodhGaya बिहार में गया शहर से कुछ दुरी पर स्थित Buddhism के अनुयायियों का सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है। यह पवित्र ,धार्मिक और सांत पर्यटन स्थल हजारों Buddhist pilgrims को अपने तरफ आकर्षित करता है। यह शहर के शोरगुल से दूर और प्रकृति की गोद में स्थित एक शान्तिप्रिय शहर है। Gautam buddha ने शहर के एक स्थान पर वृछ के निचे तपस्या कर ज्ञान की प्राप्ति की थी। गौतम बुद्ध ज्ञान की प्राप्ति के बाद बुद्ध हो गये और इस स्थान को छोड़ कर…

Vishnupad Temple: प्राचीन मंदिर जहाँ है भगवान विष्णु का चरण चिह्न

Vishnupad Temple

गया घूमने आने वाले पर्यटकों के बिच Vishnupad Temple बहुत ही लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। यह मंदिर फल्गु नदी के पश्चिमी तट पर स्थित है। यह एक प्राचीन और ऐतिहासिक मंदिर है और भगवान विष्णु को समर्पित है। इस मंदिर में 40 सेंटीमीटर लम्बे भगवान विष्णु के पदचिन्हों की पूजा की जाती है। लोगों के अनुसार इस मंदिर का सम्बन्ध गायसुर और भगवान विष्णु के युद्ध से है। Gaiasur तपस्या कर वरदान माँगा की जो उसे देखेगा उसे मोक्ष प्राप्त होगा। वरदान के कारन, अनैतिक लोग बिना धार्मिक कार्य के भी मोक्ष को प्राप्त करने लगे। तब Lord Vishnu ने उस असुर के सिर पर अपने दाहिने पद से धरती के अंदर चला गया और भगवान विष्णु का पैर सतह…

Gaya: पिण्डदान व श्राद्ध के लिए देश में सबसे प्रमुख तीर्थस्थल

Gaya

गया बिहार राज्य के सबसे प्रमुख धार्मिक तीर्थ स्थलों में से एक है। इसलिए आज हमलोग गया के प्रमुख तीर्थ स्थलों की यात्रा करेंगे। यह सुंदर शहर प्रकृति की गोद में बसा है। यह तीन तरफ से छोटी पहाड़ी से घिरा हुआ है और दूसरे तरफ Phalgu River है। हरे भरे पेड़ और ऊंचे पहाड़ शहर की सुंदरता को कई गुना बढ़ा देते है। Gaya तीर्थ स्थल एक धार्मिक और प्राचीन नगर है। यह धार्मिक शहर मौर्य काल में एक प्रमुख नगर था। इस नगर पर मध्यकाल में मुगल सम्राटों का और बाद में अंग्रेजों का राज था। इस प्राचीन नगर की प्रसिद्धि वाराणसी नगर की तरह ही एक धार्मिक नगर के रूप में है। फल्गु नदी के तट पर…