Mahabodhi Temple : भगवान बुद्ध से सम्बंधित विश्व की प्राचीन मंदिर

Mahabodhi Temple

भारत देश में बिहार स्थित बोधगया का Mahabodhi Temple बौद्ध धर्म का सबसे महत्वपूर्ण केंद्र है। यह बिहार का सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है और बिहार घूमने वाले पर्यटकों के बिच काफी लोकप्रिय है। इस Buddhist temple का इतिहास बहुत ही गौरवशाली रहा है।

इतिहासकारों के अनुसार 500 ईस्वी पूर्व गौतम बुद्ध ज्ञान की तलाश में Bodhgaya पहुंचे और एक Bodhi Tree निचे तपस्या करने लगे। ध्यान कर ज्ञान प्राप्त करने के बाद वे धर्म प्रचार करने के लिए वाराणसी स्थित सारनाथ चले गए। भगवान बुद्ध को जिस स्थान पर ज्ञान प्राप्त हुआ , उस स्थान पर 250 वर्ष बाद महान सम्राट अशोक ने Mahabodhi Temple और मठ का निर्माण कराया था।

बिहार का सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थल

यह बौद्ध मंदिर 4.8 हेक्टेयर में फैला हुआ है। मुख्य मंदिर की उचाई 55 मीटर है। मंदिर के बगल में काले पत्थर की कमल के फूल है और पौराणिक कथा के अनुसार, इस मार्ग पर बुद्ध के चलने के कारन कमल के फूल उग आए थे। भगवान बुद्ध ने Mahabodhi Temple के आस पास सात अलग-अलग स्थानों पर सात सप्ताह ध्यान किये थे। मंदिर के आस पास कई विशिष्ट स्थान मौजूद है और बुद्ध के सात अलग-अलग स्थानों से सम्बंधित है।

Mahabodhi Temple
महाबोधि मंदिर में भगवान बुद्ध से सम्बंधित एक प्राचीन स्तूप @

मंदिर के चारो तरफ बहुत से प्राचीन स्तूप है। मंदिर के बहरी दीवारों पर बहुत ही खूबसूरत मोल्डिंग ,फूल और Buddha की विभिन्न मूर्तियाँ बनी हुई है। मंदिर के पास बहुत से पुरातत्व अवशेष मिले है। इन अवशेष को Bodhgaya Museum और कोलकाता स्थित इंडियन संग्रहालय में रखा गया है।

महाबोधि मंदिर बुद्ध को मानने वालों के लिए विश्व का सबसे महत्वपूर्ण और पवित्र तीर्थस्थल है और बुद्ध से जुड़े भारत देश के चार पर्यटन सथलो में से एक है। यह बौद्ध मंदिर भारत के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक है और इस स्थान पर पूजा भी की जाती है।

सन 2002 में इसको UNESCO द्वारा विश्व धरोहर स्थल घोसित किया गया है। विश्व के कोने कोने से पर्यटक और बौद्ध के अनुयायी इस World heritage tourist destination को देखने के लिए आते है।

Bodhi Temple Opening Time (बोधि मंदिर खुलने का समय)

महाबोधि मंदिर परिसर पुरे वर्ष खुला रहता है, इसलिए आप बोधि मंदिर पुरे वर्ष घूम सकते है। परन्तु पर्यटकों के जानकारी के लिए मंदिर खुलने का समय

खुलने का समय : 05 : 00 AM
बंद होने का समय : 09 : 00 PM

Mahabodhi temple entrance fee (महाबोधि मंदिर का प्रवेश शुल्क)

महाबोधि मंदिर और परिसर के अंदर आपसे कोई प्रवेश शुल्क नहीं लिया जाता है। प्रवेश करने से पहले सुरक्षा के दृश्टिकोण से मुफ्त सामान काउंटर पर आपके सेल फोन और अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को रखने को कहाँ जाता है। कैमरे और वीडियो कैमरा के लिए क्रमशः 100 रुपये और 300 रुपये देकर आप इसको मंदिर परिसर के अंदर ले जा सकते है। परिसर के अंदर ही एक ध्यान पार्क है जिसमे आप छोटा सा प्रवेश शुल्क दे कर अंदर जा सकते है।

Best time to visit Mahabodhi Temple (महाबोधि मंदिर घूमने का सही मौसम)

वैसे तो पुरे वर्ष बोधि मंदिर घूमने वाले पर्यटक आते रहते है। परन्तु अक्टूबर से मार्च तक के बीच का मौसम बेहद सुहावना होता है और साथ ही तापमान भी मध्यम होता है। यह मौसम बोधि मंदिर के साथ बोधगया और आस पास के पर्यटन स्थल घूमने का सही वक्त होता है।

How to reach Mahabodhi Temple (महाबोधि मंदिर कैसे पहुंचे)

सड़क : बोधगया बस स्टैंड” सबसे निककतम बस अड्डा है।

रेल :गया रेलवे जंक्शन स्टेशन” सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन है।

हवाई :गया हवाई अड्डा” और “पटना हवाई अड्डा” सबसे निकटतम हवाई अड्डा है।

About the Author: antitra team

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: