ग्रेट बुद्धा स्टेचू : देश में भगवान बुद्ध की सबसे बड़ी प्रतिमा

ग्रेट बुद्धा स्टेचू

बोधगया अपने यहाँ घूमने आने वाले पर्यटकों को कभी नीरास नहीं करता है। बोधगया स्थित बुद्ध को समर्पित कई खूबसूरत और नक्कासीदार स्मारक, मठ और स्तूप कई अन्य देशो द्वारा बनाया गया है। जिससे पर्यटकों का रोमांच हमेसा बढ़ा रहता है। इसी रोमांच को दुगना करने आज हमलोग बोधगया स्थित ग्रेट बुद्धा स्टेचू की प्रतिमा को देखने चलेंगे।

बोधगया स्थित महाबोधि मंदिर से कुछ मिनट की दुरी पर, भारत देश में स्थित भगवान बुद्ध की सबसे बड़ी प्रतिमा ग्रेट बुद्धा स्टेचू स्थित है। इस प्रतिमा का निर्माण 1989 ईस्वी में XIVth दलाई लामा ने कराया था। बुद्ध की विशाल मूर्ति ध्यान की मुद्रा में बनाया गया है। बुद्ध की प्रतिमा की उचाई 64 फुट है और 6 फुट ऊचे कमल के फूल पर विराजमान है। इस प्रतिमा का आधार 10 फुट ऊंचा है। इसतरह बुद्ध की इस प्रतिमा की कुल उचाई 80 फुट है।

महाबोधि मंदिर के बाद सबसे ज्यादा घूमे जाने वाला पर्यटन स्थल

मूर्ति का निर्माण लाल ग्रेनाइट और बलुआ पत्थर के मिश्रण से हुआ है। लगभग 12000 राज मिस्त्री ने 7 साल में बुद्ध के इस प्रतिमा का निर्माण पूरा किया था। भगवान बुद्ध का प्रतिमा के चारो ओर बुद्ध की मुख्य 10 शिष्यो की छोटे प्रतिमाओं से घिरा हुआ है। बुद्ध की शिष्यो की प्रतिमा भी बलुआ पत्थर से निर्मित है। बुद्ध की मूर्ति के आगे एक धातु का अस्थि कलस रखा हुआ है। प्रवेश द्वार से स्मारक तक आने वाले रास्ते के दोनों तरफ हरे भरे वृक्ष और खूबसूरत फूल लगे है। जिससे इस स्मारक की खूबसूरती कई गुना बढ़ जाती है।

बुद्धा स्टेचू बोधगया मुख्य मंदिर परिसर से कुछ दुरी पर स्थित है। ग्रेट बुद्धा स्टेचू के आस पास कई अन्य स्मारक और मठ बने है और यहाँ का वातावरण बहुत शांति देने वाला है। इसलिए पर्यटक इस खूबसूरत और शांत जगह की यात्रा कर बहुत ही आनंदित होते है।

ग्रेट बुद्धा स्टेचू खुलने का समय :

स्मारक के खुलने का समय : 07 : 00 AM
स्मारक के बंद होने का समय : 05 : 30 PM

ग्रेट बुद्धा स्टेचू कैसे पहुंचे :

सड़क मार्ग द्वारा : महाबोधि मंदिर से सड़क मार्ग द्वारा जुड़ा हुआ है और “बोधगया बस स्टैंड” सबसे निकटतम बस अड्डा है।

रेल मार्ग द्वारा : बोधगया का अपना कोई रेलवे स्टेशन नहीं है और “गया रेलवे स्टेशन” सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन है।

हवाई मार्ग द्वारा : “गया हवाई अड्डा” सबसे निकटतम हवाई अड्डा है।

About the Author: antitra team

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: